कौआ और लोमड़ी की दोस्ती

कौआ और लोमड़ी की दोस्ती
एक घने जंगल मे एक कौआ और लोमड़ी रहती थी । दोनो में गहरी दोसती थी। वे दोनों जहा भी जाते थे साथ जाते थे । वे जो खाते थे वे साथ मे कहते थे इतना ही नही कौआ को अगर कोई अच्छी चीझ मिलती थी।
तो वह लेकर आता था और लोमड़ी और कौआ साथ मे बैठकर खाते थे। उसी जंगल मे एक सियार रहता था
सियार को उनकी दोस्ती देखकर बहुत जलन होता था। वे चोचते थे कैसे इन दोनों की दोस्ती तोरे वे दिन रात बस ऐसी सोच में डुबा रहता था।
एक दिन सियार रात भर सोच तो उसे एक आइडिया आई। वह सुबह हो ही लोमड़ी के पास अनजान बनकर गया और बोला कि लोमड़ी भाई तुम मुझसे दोस्ती करोगे । लोमड़ी उसे देखने लगी। फिर से सियार बोला मैं इस जंगल मे नया हु मुझे कोई नही जानता है । क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगी। इतना सु लोमड़ी बोली तुम पहले चलो नेरे साथ मेरे दोस्त के पास वह है बोले गया तो मैं तुमसे दोस्ती करोगी।
फिर वह कौआ के पास गए और कौआ से लोमड़ी सारि बात बताई टैब कौआ बोला हमे किसी पर ऐसे ही बिस्वास नही करनी चाहिए। फिर लोमड़ी बोली क्या मैं तुम्हे जानती थी फिर भी हैम दोनो दोस्त बने वैशे ही हम भी इसे अपना दोस्त मैन लेते है। कौआ बोला ठीक है। फिर तीनो दोस्त बन गए।
एक दिन की बात है जब कौआ कहि चला गया तो सियार सोच यही मौका है कौआ और लोमड़ी को अलग करने की सियार लोमड़ी के पास गया और बोला लोमड़ी भैया अपने बगल वाला जंगल मे बहुत मीठा मीठा फल है । चलो न हम वह से कुछ खाकर आते है। लोमड़ी बोली ठीक है चलो दोनो एक फल के खेत मे गए दोनो फल खाने लगे।
तभी सीकरी आया और लोमड़ी पर जाल फेक दिया
यह देख सियार बहुत खुश हुआ और चोचा अब यह मार जाएगी तो हमे खाने को मिलेगा। यह चोचा चोचा वह बहुत खुश हुआ और एक पथर के पास जाकर छुप क्या और देखने लगा।
तभी कौआ उसी रास्ते से घर जा रहा था। कौआ ने लोमड़ी को दोखा और लोमड़ी के पास गया । और सारी बात पूछा लोमड़ी ने सारी बात बताई उसके बाद कौआ ने लोमड़ी को एक उपाये बताया । तू मारने की एक्टिंग करना जब तुम्हे मरा हुआ सीकरी देखे गए तो तुमपर से वह जाल हटाएगा जैसे वह जाल हटाएगा वैशे तुम तेजी से भाग जाना।
अब इधर सियार के मन मे लडू फूटने लगा वह चोचने लगा अब सिकरी हिरन को फेकेगा । तभी शिकारी आया और लोमड़ी को मारा देखकर वह जाल उठाया
वैसे ही लोमड़ी भाग गई।भगता देख शिकारी उसपर बरक्षी चलाई बरक्षी लोमड़ी को न लगकर सियार को लग गया। सियार बेचारा मार गया।
अब लोमड़ी औऱ कौआ दोनो साथ चले गए

Leave a Comment